नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


Archive for January, 2008

हिन्दी चिट्ठाकारी के आँकड़ों पर एक नज़र

By • Jan 16th, 2008 • Category: ज़िंदगी आनलाईन

हिन्दी ब्लॉग्स चिट्ठादर्शिका पर एक सुविधा पर ज्यादा लोगों की नज़रेइनायत नहीं होती पर मुझे उसमें खास रुचि रहती है। चिट्ठाकारी के शुरुवाती दिनों से ही मुझे इनके आँकड़ें आकर्षित करते रहे हैं। चिट्ठाविश्व पर एक जावा एप्लेट हुआ करता था जो विभिन्न भारतीय भाषाओं के चिट्ठों की संख्या का अनुमान लगाने में मदद करता […]



RMIM पुरस्कारः आप का पसंदीदा गीत कौन सा है?

By • Jan 16th, 2008 • Category: ज़िंदगी आनलाईन

इंटरनेट पर कई भारतीय अपनी माटी की सुगंध लेने आते रहे हैं। यूज़नेट समूहों के ज़रिये अपने वतन के बारे में बाते करते रहे हैं। 1992 में स्थापित rec.music.indian.misc एक ऐसा ही न्यूज़ग्रुप है जो हिन्दी संगीत के चाहनेवालों का जमघट रहा है, भले बातें अंग्रेज़ी या रोमन लिपि में हिन्दी लिख कर होती हों, […]



चार पोस्टिया ब्लॉग विशेषज्ञ

By • Jan 10th, 2008 • Category: ज़िंदगी आनलाईन

संजय तिवारी के मन में दिल्ली की प्रस्तावित ब्लॉगर मीट से सहसा विस्फोट हुआ है। लिखते हैं, “निश्चित रूप से इस भेंटवार्ता के पीछे कोई व्यावसायिक नजरिया है. स्पांसरों का खेल है. और जहां व्यावसायिक नजरिया और स्पांसर पहुंच जाते हैं वहां आयोजन हमेशा निमित्त बनकर रह जाते हैं. होता यह है कि आयोजन स्पांसरों […]



ऐसी उम्मीद ही क्यों?

By • Jan 10th, 2008 • Category: आसपास

ऐसी ख़बर से इंडिया का क्या फायदा होगा दोस्त? कुछ क्वालिटी काम करो भाई. इंजीनियर्स, डॉक्टर्स, स्टूडेंट्स, किसान, सैनिक, मंत्री क्या कर रहे हैं बताओ. इंडिया सुपर पावर कैसे बनेगा यह बताओ. हीरो – हीरोइन की ख़बर से आगे नही बढ़ेगा देश. जोश-18 पर एक फालतू फिल्मी खबर पर उरुगुये के एक पाठक सुनील की […]