नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


गरमा गरम पोस्ट

कोउ नृप होउ

हम सोचते हैं कि भ्रष्टाचार की जड़ नेता और राजनीति है इसके उलट दरअसल जड़ हमारे नौकरशाह ही हैं। कर्नाटक में २००८ से २०१३ तक भाजपा सरकार थी और उसके बाद से काँग्रेस। इस सरकारी चोलाबदली से जमीनी हकीकत पर कोई फर्क नहीं पड़ा, सरकारें बदलती हैं पर नौकरशाह तो नहीं बदलते। कोउ नृप होउ।


{2 टिप्पणीयाँ}
पूरा आलेख पढ़ें»


हालिया प्रविष्टियाँ

बड़ा अच्छा पखवाड़ा रहा। यूं तो पहले भी कुछ ऐसे ईनामात मिले पर इस बार काफी दिनों बाद किस्मत ने साथ दिया लगता है। पहले तो प्राप्त हुआ भाषाईंडिया की ओर से माईक्रोसॉफ्ट वायरलेस कीबोर्ड और माउस (कहना पड़ेगा कि बहुत ही शानदार चीज है, हालांकि नामुराद कुरियर वालों ने 4 बैटरियां रास्ते में ही […]

स्पष्टिकरणः यह समूची पोस्ट अप्रेल फूल बनाने के लिये लिखी मजाकिया पोस्ट है, इसमें कही बातें सरासर गप्प हैं और केवल मजे लेने के लिये ही लिखी गई हैं। पाठकों को याद होगा कि चिट्ठा चर्चा में मेरे लगाये कयास पर एनडीटीवी के अविनाश ने टिप्पणी की थी के ये केवल उनका व उनके सहयोगियों […]

13 साल की उम्र में आपके क्या किया करते थे? ज़रा याद कीजीये। आप शायद अपनी खेल कूद और यार दोस्तों के साथ की शैतानियों का पिटारा खोल रहे होंगे। अगर मैं कहूं कि कैलिफोर्निया, अमेरिका में सांतवी ग्रेड के भारतीय छात्र अंशुल समर इसी उम्र में अपनी कंपनी खोल चुके हैं तो आप ज़रूर […]

वीर सांघवी का कहना है (काफी हद तक मेरे विचारों से मिलता है) “वाजपेयी का कद हमें भाजपा की असली सूरत देखने से रोक देता है। समीकरण से उन्हें निकाल तो हमें ऐसे लोगों का दल मिलेगा जिन्हें सामुहिक हत्याओं से गिला नहीं, जो साधुओं से राजनीतिक परामर्श लेते हैं और जिन्होंने चुनावी रणनीतियां बनाने […]

लोकप्रिय हिन्दी पॉडकास्ट पॉडभारती ने अपना नया अंक जारी कर दिया है। इस बार के अंक से एक नये स्तंभ की भी शुरुआत हुई है जिसका नाम है “लीक से हटकर”। पॉडभारती के ताज़ा अंक में आप सुन सकते हैं नये स्तंभ “लीक से हटकर” में जीटॉक के स्टेटस संदेशों के अभिनव प्रयोग के बारे […]