नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


ताज़ातरीन पोस्ट

1000वीं चिट्ठा चर्चा पर एक लेटलतीफी पोस्ट

10 नवंबर 2009 को हिन्दी ब्लॉग जगत के सार्वजनिक उपक्रम चिट्ठा चर्चा ने अपनी एक हजारवीं पोस्ट छापी। लेखों के बाढ़ से अपनी रुचि या काम की जानकारी पाने के लिये चिट्ठा चर्चा जैसे मंचों की ज़रूरत हमेशा बनी रहेगी। देखना यह है कि क्या समय के अनुरूप ये अपने को ढाल कर सफलता के नये परचम लहराते हैं या फिर यही कलेवर बनाये रख अपनी लोकप्रियता और उपयोगिता को बरकरार रख पाते हैं।


{11 टिप्पणीयाँ}
पूरा आलेख पढ़ें»


इतिहास के पन्नों से

सप्ताह 31 के स्वादिष्ट पुस्तचिन्ह
मेरा डिलिशीयस पुरालेखागार योडल अनेक्डोटलयाहू का कार्पोरेट ब्लॉग टैग: [blog corporate cv yahoo ब्लॉग याहू] एनडीटीवी ब्लॉग्सएनडीटीवी ने शुरु किया ब्लॉगिंग प्लैटफॉर्म, पर समझ न आवै क्यों? शेखचिल्ली जी बतावें! टैग: [blog cv ndtv ब्लॉगिंग] ... [05 Aug 2006]

हालिया प्रविष्टियाँ

सौहार्दपूर्ण उदासीन आश्चर्य»  Comments Off on सौहार्दपूर्ण उदासीन आश्चर्य

गूगल के अनुवादक की कृपा से आज यह मजेदार ईमेल मिली (मूल ईमेल के कुछ हिस्से छुपा दिये गये हैं): From: davide szabo Subject: अन्य कोई विषय मेरा नाम दाऊद Szabo है. मैं सिर्फ :978-88-xxxxx-66x ISBN booksprint संस्करणों के साथ एक लघु कहानी पोस्ट booksprintedizioni.xx/deidamaxxx.html. मुझे आश्चर्य है कि अगर आप कृपया मेरे लघु कहानी […]

सामयिकी जालपत्रिका ने चिट्ठा वार्षिकी 2008 हेतु एक सर्वेक्षण का आयोजन किया है। सर्वेक्षण के नतीजों के आधार पर सामयिकी पर “चिट्ठा वार्षिकी 2008″ श्रृंखला के अंतर्गत रपट इस माह प्रकाशित होगी। इस सर्वेक्षण के द्वारा हम हिन्दी चिट्ठामंडल के सबसे लोकप्रिय ब्लॉग पोस्ट और ब्लॉगरों की भी घोषणा करेंगे। सभी हिन्दी ब्लॉगरों से इस […]

”क्रोम” का बीटा संस्करण कम्प्यूटर व्यावसाय जगत में माइक्रोसॉफ्ट के प्रभुत्व में इज़ाफ़ा करेगा। गूगल के नये ब्राउज़र क्रोम पर बीबीसी हिन्दी की विशेष टिप्पणी। जी दुरस्त फ़रमाया! इससे अच्छा तो मैं जर्मन भाषा में लिखे ब्लॉग को हिन्दी में पढ़ लूं। सुंदर, मैं अनदेखी चिकनी पुनश्चः अनुनाद ने ध्यान दिलाया। लगता है बीबीसी हिन्दी […]

कई बार चित्र वाकई वो कहानी बयां कर जाते हैं जिसको हजार शब्दों की दरकार नहीं होती. ईमेल फॉर्वर्ड से प्राप्त :)

भले मैं और आप और खास तौर पर भाषा शुद्धतावादी फिलहाल गूगल अनुवादक में नई जोड़ी गई हिन्दी अनुवाद की सेवा का फिलहाल प्रयोग न कर रहे हों पर लगता है स्पैमरों ने ज़रूर इसका इस्तेमाल करना शुरु कर दिया है।

फ़ेसबुक के संस्थापक मार्क ज़ुकरबर्ग हाल ही में भारत आये थे। कयास लगे भारतियों में बेतहाशा लोकप्रिय आर्कुट से इसी धरती पर दो दो हाथ करने का इरादा बना है। पर सारे कयासों के बीच असलियत कुछ और ही निकली। जानने के लिये पढ़िये पूरी पोस्ट।