नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


Posts Tagged ‘bajrang_dal’

बाहुबली बनने चले बुद्धिजीवी

By • Mar 4th, 2004 • Category: किस्से कुर्सी के

सागरिका घोष मानती हैं कि भाजपा के मन में यह पेच रहा है कि वह बुद्धिजीवियों, कलाकारों और इतिहासकारों का दिल नहीं जीत पाई। सर विदिया को मंच पर ला कर वे इस बात को झुटलाना चाहते हैं। कैसी विडंबना है कि जिस जमात के विचारों को छद्म धर्मनिरपेक्षतावाद या वामपंथी विचारधारा बता कर खारिज […]