नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


Posts Tagged ‘sangh’

रहिमन माया संतन की..

By • Apr 19th, 2004 • Category: आसपास, किस्से कुर्सी के

उज्जैन में सिंहस्थ की खबरों में बड़ा अजीब विरोधाभास नजर आता है। भई, बचपन से हम को तो यही सिखाया-बताया गया है कि साधु वैराग का दूसरा नाम होते हैं; मोह-माया, मानवीय कमजोरियों, वर्जनाओं से परे, गुणीजन होते हैं। हो सकता है कि कलियुग की माया हो, वरना मुझे तो ऐसे कुछ संकेत दिखे नहीं। […]