नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


अभिन्यास विन्यास

By • Feb 28th, 2006 • Category: ब्लॉगिस्म

Mullet layoutअगर आपने हाल में गौर किया हो तो कुछ दिनों से इस चिट्ठे के आखिरी हिस्से में प्रविष्टियों की बजाय उनकी कड़ियाँ दी जा रही हैं। दरअसल यह मलेट अभिन्यास का अनुसरण करता है जिसमें सारी प्रविष्टियों को एक साथ न दिखाकर कुछ को पूर्णतः दिखाया जाता है और शेष की सिर्फ कड़ियाँ दी जाती हैं। इस संरचना को रचने वाले जॉनाथन का इंफॉर्मेशन सेंट के सिद्धाँत पर यकीन है, जिसके अनुसार पाठक तब तक आपके जालस्थल पर टिका रहेगा जब तक कि कड़ियाँ उसे यह संबल देती रहे कि कोई काम की जानकारी अवश्य हाथ लगेगी, ठीक शिकारी जानवरों की भाँति जो पदचिन्हों के आधार पर पता लगा लेते हैं कि अच्छा शिकार हाथ लगेगा या नहीं।

कपिल ने अपने ब्लॉग में वर्डप्रेस संचालित ब्लॉग पर यह अभिन्यास लागू करने का तरीका बतलाया है (के-टू थीम की कसम यह उतना आसान नहीं जितना दिखता है, खास तौर पर अगर पी.एच.पी का सर-पैर न मालूम हो)।

Tagged as: , ,

 

2 टिप्पणीयाँ »

  1. भाई, बात थोड़ी ऊपर से निकल गई। थोड़ा और ध्यान लगाकर देखना पड़ेगा।

  2. मुलेट स्टाईल नया तो है। पर इसके द्मारा बताए गए दोष लाईव अर्काइव्स जो कि आपने भी लगा रखें है पर लागू नहीं होते। साथ ही एक नई चीज मार्किट में है नाम है रोलिंग अर्काइव्स मिर्ची सेठ पर देखी जा सकती है।

    पंकज