नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


दवा नहीं बैसाखी

By • May 23rd, 2006 • Category: आसपास

मैं तब इंजीनियरिंग के प्रथम वर्ष में था जब मंडल कमीशन की अनुशंसा के खिलाफ छात्र आंदोलन जोर पकड़ रहे थे। मुझे याद है, तब सीनियरों ने पकड़ पकड़ हम सब को इकट्ठा किया था और फिर भेड़ों की नाई चल पड़े थे हम “प्रदर्शन” करने। दोपहर जब पुलिसिया लाठियाँ चलीं तो जिसको जो रास्ता मिला बस सरपट भागे। शाम तलक फिर आ जुटे, स्वेच्छा से गिरफ्तारी दी, अंधेरा होने तक थाने के बाहर मैदान में बैठे रहे और फिर न जाने कब हॉस्टल लौट आये। बरसों बाद मंडल का जिन्न बोतल से बाहर निकाला गया है। जो काम तब सीनीयरों ने किया अखबार बोल रहे हैं कि इस बार इवेन्ट मैनेजमेंट कंपनियाँ कर रही थीं, डॉक्टरों की मुहीम को “डॉक्टर” कर के। मीडिया को समझ नहीं आ रहा कि कश्मीर, फुटबॉल,शेयर बाज़ार, क्रिकेट और आरक्षण में से किस को कितनी तरजीह दें।

ईमानदारी से कहूँ तो मुझे समझ नहीं आता कि किस का पक्ष लूँ। हमारी सामाजिक संरचना ही जाति और वर्ण आधारित रही है। यह आज की बात तो नहीं है। और आजाद भारत के जन्म से पहले से ही इन पर आधारित राजनीति की शुरुवात हो गई थी। बस खिलाड़ी बदलते गये, खेल वही रहा। एनडीटीवी के सर्वेक्षण से पता चला कि ग्रामीण भारत यह तो मानता है कि आरक्षण का मुद्दा महज़ राजनीतिक तिकड़म है पर यह भी मानता है कि आरक्षण से समाज का भला होगा। चिदंबरम कहते हैं कि मैंने अपनी आँखों से दक्षिण भारत को आरक्षण के सहारे आगे बढ़ते देखा है। सचाई यह है कि आज तक कोई फीसीबिलिटी स्टडी नहीं हुई जो यह बता सके कि अब तक आरक्षण से लोगों को फायदा पहुँचा कि नहीं।

पर यह सही है, जिस वर्ग को अपने हिस्से से कुछ जाता दिखेगा उसे गुस्सा तो आयेगा पर आरक्षण के विरोधी जब यह आपत्ति जताते हैं कि इससे नालायक लोगों को मौका मिल जायेगा तो मुझे बात समझ नहीं आती। क्या सवर्ण जाति के “नालायक छात्र” कैपीटेशन फी की मार्फत एडमिशन नहीं पा जाते? तो मुद्दा दरअसल काबिलियत का है ही नहीं। मु्द्दा यह है कि आज आजादी के साठ साल बाद भी आरक्षण की दरकार क्यों महसूस हो रही है? आपका कहना सही है, उ.प्र. के चुनावी मैदान में काँग्रेस जाति की राजनीति के माहिर खिलाड़ी मुलायम सिंह को शिकस्त दे कर राहुल को प्रधानमंत्री की कुर्सी का सही हकदार साबित करना चाहती है। यह तो हर कोई जानता है कि यह राजनीतिक तिकड़म है और हर राजनीतिक दल इस हमाम में नंगा है। तो मुद्दा यह कि आजादी के साठ साल बाद भी इस देश में जातिगत व्यवस्था की जड़ें इतनी गहरी बसी हैं कि जातिगत राजनीति करने वाले दलों की दालरोटी बदस्तूर चल रही है। मुद्दा यह है कि समानता की व्यवस्था की बात करने वाले हमारे समाज में असमानता की अभी भी गहरी पैठ है।

दुख की बात यह है कि असमानता के सही कारणों की खोज न कर बस तुष्टीकरण की राजनीति इस देश में होती है। जख्म पर मरहम न लगाओ, बैसाखी दे दो! आरक्षण के सही ज़रूरतमंदों की पहचान मत करो, उनको प्रतियोगी परीक्षाओं की महंगी तैयारी करने में मदद न करो, उनकी शालाओं को पब्लिक स्कूलों के बराबर की सुविधाएं न दो, बस ओ.बी.सी का तमगा लगाये किसी भी बंदे को, भले वो मुँह में चांदी का चम्मच लिये हो बंदरबाँट में रेवड़ीयाँ बाँट दो। बीस साल बाद फिर हिसाब लगाना और देखना कि असमानता तो बनी हुई है, तब तक राजीव या मुलायम या मायावती के बेटे सिंहासन संभालने के लायक हो जायेंगे। तो किसी चुनाव के शुभ अवसर पर फिर खोल देना बोतल का मुँह!

Tagged as: , , ,

 

3 टिप्पणीयाँ »

  1. बहुत बढिया लिखा है.

  2. सही कहा!

    मेरा विचार मे एक अच्छा उपाय है…जैसे नालायक छात्रों के लिये कैपिटेशन वाले कालेज हैं, उसी तरह ठीक उसी तरह, सरकारी या प्राइवेट आरक्षित कालेज खोले जाने का सर्वोत्तम विचार, जिसमे आरक्षित अध्यापक भी हों का विचार राज्नीत्तिज्ञों को क्यों नही आता। उनको न भी आये तो हमारे सृजन शिल्पी जैसे सज्जन इस क्षेत्र मे आगे क्यो नही आते? नये कालेज स्कूल , विश्वविद्यालय खोलिये, क्यों आरक्षण की तरफ़ ललचायी निगाहों से देखते है, और जब तक अर्जुन सिंह ने नही बताया, तब तक क्या, इसके औचित्य और समर्थन के लिये आवाज नही उठानी चाहिये थी? जब इनके जैसे बुद्धिजीवी भी राज्नीतिज्ञों के पिछ्लग्गू बने रहेगें तो हमारे पिछ्डा वर्ग का विकास, कोई भी आरक्षण नही कर सकता, ५० से भी अधिक सालों का इतिहास इसका साक्षी है।

    इससे एक फायदा ये भी होगा कि समानता की भावना विकसित होगी, और बहुसन्ख्यक पिछडा वर्ग के योग्य एवं समान उच्च मानसिक स्तर के छात्र किसी विषय को अध्यापक के समान प्रयास से समझ सकेन्गे। आप लोग ऐसे सन्सथानो को उस ऊन्चाई तक ले जाइये जहां कि वो प्रतियोगिता सन्सथान स्तर पर हो जाये, IIT Aluminies द्वारा किये गये प्रयास इस प्रकार की प्रणाली के ज्वलन्त उदाहरण हैं। IITs मे बढता आरक्षण उसकी विश्व मे साख को जरूर गिरा देगा, उसकी चिन्ता किसी को क्यो नही है?

  3. जब तक प्रयासों में ईमानदारी नहीं होगी ये समस्यायें ऐसे ही बनी रहेंगीं।

आपका क्या कहना है ?