नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


Archive for June, 2005

असली या नकली

By • Jun 23rd, 2005 • Category: ब्लॉगिस्म

अमर सिंह का कथित ब्लॉग पढ़ा। इतने दिनों से सबका लेखन पढ़ते पढ़ते पता चल जाता है कि कौन “में” को “मे” लिखता है, कौन पूर्णविराम की जगह बिंदु लगाता है, कौन किताबें “पड़ता” है, कौन पढ़ता नहीं, कौन लेखन की “ईच्छा” रखता है और कौन कॉमा के पहले “स्पेस” छोड़ता है, कौन लेफ्टी और […]



कोई कहे कहता रहे

By • Jun 15th, 2005 • Category: किस्से कुर्सी के

नेता बनने के लिये जिस्मानी और रूहानी खाल दोनों का मोटी होना ज़रूरी है। जीवन का आदर्श वाक्य होना चाहिये “कोई कहे कहता रहे कितना भी हम को…”। बेटे के साथ अन्याय के नाम पर कब्र मे पैर लटकाये करूणानिधि ने नई पार्टी तैरा दी, राज्यपाल बूटा सिंह के राज्य की नौका के पाल खुलम्म […]



असाधारण है रियली सिंपल सिंडिकेशन

By • Jun 13th, 2005 • Category: बातें तकनीकी

ब्लॉग जब खूब चल पड़े और चारों और इनके चर्चे मशहूर हो गये तो इसी से जुड़ा एक और तंत्र सामने आया। जिस नाम से यह पहले पहल जाना गया वह ही इसका परिचय भी बन गया। यूं तो आर.एस.एस एक तरह का क्षमल प्रारूप है और इसके बाद आर.डी.एफ, एटम यानि अणु जैसे अन्य […]



सृजनात्मकता और गुणता नियंत्रण

By • Jun 8th, 2005 • Category: रुपहली दुनिया

उत्पाद चाहे कैसा भी हो गुणता यानि क्वालिटी की अपेक्षा तो रहती ही है। भारतीय फिल्मों के बारे में कुछ ऐसा लगता नहीं है। शायद इसलिये कि सफलता के कोई तय फार्मुले नहीं हैं और गुणता नियंत्रण की संकल्पना किसी क्रियेटिव माध्यम में लाना भी दुष्कर है। यह बात भी है कि जब बड़े पैमाने […]