नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


असली या नकली

By • Jun 23rd, 2005 • Category: ब्लॉगिस्म

अमर सिंह का कथित ब्लॉग पढ़ा। इतने दिनों से सबका लेखन पढ़ते पढ़ते पता चल जाता है कि कौन “में” को “मे” लिखता है, कौन पूर्णविराम की जगह बिंदु लगाता है, कौन किताबें “पड़ता” है, कौन पढ़ता नहीं, कौन लेखन की “ईच्छा” रखता है और कौन कॉमा के पहले “स्पेस” छोड़ता है, कौन लेफ्टी और कौन समाजवादी। यू.पी वाले सबूत बहुत छोड़ जाते हैं, पर कनपुरिये ही बनाये और बन भी जायें, अटल जी कहते “ये अच्छी बात नहीं है”! बहरहाल जब तक संदेह की पुष्टि न हो, संकेत बस इतने ही।

 

2 टिप्पणीयाँ »

  1. आपने गागर में हमारी गलतियों का सागर भर कर हमारे सामने रख दिया है । मेरे विचार से इसमे से कुछ तो व्यक्तिगत शैली और पसन्द के भाग हैं , कुछ “चलता है” वाली सोच और कुछ हिन्दी संपादकों की जटिलाता ( मैं चाहकर भी जल्दी में हलन्त का प्रयोग नही कर पाता हूँ ) ।

    खैर, लिखित भाषा को पढकर “अमर सिंह” की वास्तविक पहचान करना एक बहुत अच्छी दिमागी कसरत है ।

    अनुनाद

  2. में का प्रयोग हिन्दी मे सही नही है यह हिन्दी मे उर्दू उच्चारण के लिए प्रयोग होता है. बाकि समस्याऎ टाइपिगं, साफ़्ट्वेयर की जटिलाता कि वजह से हो सकती है. मेरे विचार से नेट पर ये गलतिया करने वाला भी हिन्दी का अच्छा जानकार हो सकता है. ये नुक्ताचीनी गलत है.