नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


नाइजीरिया की आपा को खुली चिट्ठी

By • Mar 24th, 2006 • Category: ज़िंदगी आनलाईन

प्रिय श्रीमती जॉय डिश खुशाब आपा,

आपको याद होगा कि कुछ महीनों पहले आपने मुझे खत लिखा था। उम्मीद है आप सेहतमंद होंगी। आपका खत पढ़ने के बाद से रो रो कर मेरी आँखे बलूचिस्तान की डबलरोटी की मानिंद सूज गयी थीं। आपको बेवक्त हुये कैंसर का वाकया पढ़कर अल्लाह पर से तो मेरा यकीन ही उठ चला है। ये अहमक यह भी अब समझ सका की आपने ईसाईयत अपनानने का फैसला क्यों कर लिया होगा।

मैं यह खत आपको यह खास बात बतलाने के लिये लिख रहा हूं कि आपके साथ किस्मत ने और भी काफी बुरा खेल खेला है। आपके मियाँ जनाब डिश खुशाब जिन्हें आप मरहूम मानकर मुझे अपनी जायदाद सौंपने चलीं थीं तो आपसे भी एक कदम आगे निकले। आपके शौहर दरअसल एक नंबर के झूठे हैं, कल ही मुझे उनका खत मिला जिससे पता चलता है कि हजरत चीन में नहीं जाम्बिया में नोट छाप रहे थे। नौ साल आप अंधेरे में रहीं और इन जनाब ने आपको एक मोमबत्ती तक नहीं भेजी, पर अब ये मुझे अपने सारी जायदाद देने की सोच रहे हैं।

मुझे नहीं मालूम आप दोनो में से कौन ज़्यादा झूठा है। आप कहती हैं कि आपकी कोई औलाद नहीं और इन जनाब की बीवी और दो बच्चों का हाल ही में इंतकाल हुआ। खैर, अल्लाह आप दोनों को ऐसी हरकत करने पर भी बरकत दे, आपके पेपॉल और ईबे के खातों में दिन दूनी रात चौगुनी इज़ाफा हो और आप हर लॉटरी जीतें, यही इस नाचीज़ की दुआ है।

आपका अज्ञात शुभचिंतक

Tagged as:

 

5 टिप्पणीयाँ »

  1. आप भी बहुत दिन बाद लिखना शुरू कर रहे हैं , वर्डप्रेस के शुभारंभ और सुँदर जालस्थल पर बधाई।

  2. अपना-अपना मांगने का तरीका है भइये! तुमको काहे चिढ़ हो रही है!उनके ग्राहक भड़का रहे हो।

  3. अतुल: शुक्रिया!

    अनूपः नाइजीरिया के ईपत्रों के शिकार तो लोग होते ही रहते हैं, तभी तो इन के खतों का सिलसिला जारी है। मैं तो बस जानकारियाँ क्रॉसचेक कर रहा था, यह बताने के लिये कि चतुर सुजान और भी हैं।

  4. यह सच है कि तुम्हें अपना लिखा पढ़वाने के लिए सबको तरसाने की बीमारी है पर अनूप ठीक कहता है. तुम्हारी आपा केवल नाईजीरिया में नहीं रहतीं, उनके घर कुछ अन्य देशों में भी हैं, जहाँ हर रोज़ हमारी नई लाटरियाँ निकलती हैं, करोड़ों रुपयों का बैंक में ट्राँसफर करना होता है. करोड़पति बनने का मौका तुम्हें नहीं चाहिए तो मत लो, बेचारी आपा का दिमाग क्यों खाते हो ? 🙂
    सुनील

  5. […] में हिस्सेदारी प्रदान करने वाले स्पैम ईमेलों से उकता चुके हैं तो लीजिये स्पैमर […]