नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


गरमा गरम पोस्ट

कोउ नृप होउ

हम सोचते हैं कि भ्रष्टाचार की जड़ नेता और राजनीति है इसके उलट दरअसल जड़ हमारे नौकरशाह ही हैं। कर्नाटक में २००८ से २०१३ तक भाजपा सरकार थी और उसके बाद से काँग्रेस। इस सरकारी चोलाबदली से जमीनी हकीकत पर कोई फर्क नहीं पड़ा, सरकारें बदलती हैं पर नौकरशाह तो नहीं बदलते। कोउ नृप होउ।


{2 टिप्पणीयाँ}
पूरा आलेख पढ़ें»


हालिया प्रविष्टियाँ

आलोक और पंकज ने पहले पहल देखा पर गूगल के हिन्दी विज्ञापन अब यूएफओ के दिखने जैसे विरले नहीं रहे, अक्सर दिख जाते हैं आजकल। देसीपंडित पर आज यह विज्ञापन देखा तो पता लगा कि गूगल वाले हिन्दी मसौदे के इश्तेहार स्वीकारने तो लगे हैं पर किसी तरह की कोई परख नहीं होती। हिज्जों की […]

मेटाकैफे पर ये शानदार विडियो देखा, भारत में ही बना प्रतीत होता है। हाथी पर बैठे वन्यजीवन टूरिस्ट सुरक्षित दूरी से बाघ देखने आये हैं। पर क्या इतनी दूरी सुरक्षित दूरी थी? मेटाकैफे की साईट पर एक पाठक ने संजीदा टिप्पणी की, “भला हो महावत के पास बाँस की छोटी सी डंडी थी जिसकी मदद […]

क्षेत्रियता और विषय के आधार पर ब्लॉगों के वर्गीकरण तो होते रहते हैं, पहली बार देखा धर्म के नाम पर वर्गीकरण। गॉडब्लॉगकॉन क्रिस्तान ब्लॉगरों का पहला सम्मेलन है जो कथित रूप से इस समुदाय के ब्लॉगरों को एकजुट करेगा। एकजुट ही करना भाया, पृथकता से डर लगता है!

माईक्रोसॉफ्ट द्वारा याहू के अधिग्रहण के प्रयास से ब्लॉगमंडल में भारी हलचल तो है ही, चिट्ठाकार पर भी चर्चा जारी है। कुछ लोग खुश है, कुछ खफा, कुछ आशंकित। मुझे तो फ्लिकर और डिलिशियस की खास चिंता है। फ्लिकर पर लोगों ने अपना रोष ज़ाहिर किया, ज़ाहिर तौर पर कुछ अनोखे फोटो अपलोड कर। इस […]

उज्जैन में सिंहस्थ की खबरों में बड़ा अजीब विरोधाभास नजर आता है। भई, बचपन से हम को तो यही सिखाया-बताया गया है कि साधु वैराग का दूसरा नाम होते हैं; मोह-माया, मानवीय कमजोरियों, वर्जनाओं से परे, गुणीजन होते हैं। हो सकता है कि कलियुग की माया हो, वरना मुझे तो ऐसे कुछ संकेत दिखे नहीं। […]