नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


बनाओ अपना गूगल खोजी

By • Oct 24th, 2006 • Category: बातें तकनीकी

गूगल कोआप गूगल खोज परिणामों में सुधार लाने के लिये सार्वजनिक योगदान पाने का एक मंच रहा है। इसकी ताज़ा पेशकश है कस्टमाईज़्ड सर्च इंजन यानी आपका अपना खोज तंत्र। यह है को कुछ कुछ रोल्यो या स्कूपगो जैसा पर चुंकि खोज परिणाम गूगल के ही होंगे खोज के प्रामाणिकता और विस्तार की कल्पना की जा सकती है।

हाथ आजमाईश के लिये मैंने हिन्दी चिट्ठों की खोज करने के लिये अपना इंजन बना डाला। चिट्ठा खोजी तंत्र फिलहाल नारद, चिट्ठा चर्चा, हिन्दी ब्लॉग्स डॉट कॉम, हिन्दी ब्लॉग्स डॉट आर्ग और तरकश में खोज करता है पर आप चाहें तो इस में शामिल हो कर और स्रोत जोड़ सकते हैं, और इसके लिये गूगल मार्कर का भी उपयोग कर सकते हैं। अपना इंजन बना कर आप अपने ब्लॉग पर लगा भी सकते हैं। इसकी रंगरूप को भी बदला जा सकता है हालांकि जब मैंने देखा तो यह हिन्दी शीर्षक, स्लोगन और कीवर्ड स्वीकार नहीं कर रहा था और उनका यूनीकोड सीधे दर्शा रहा था।

Chittha Khoji
ज़्यादा तकनीकी आनंद के लिये इसमें खेलने की और काफी गुंजाईश है जैसे कि रिफाईनमेंट, जिसमें आप खोज परिणामों को फिल्टर कर सकने की सुविधा दे सकते हैं, उदाहरण के लिये मैंने चिट्ठा चर्चा का एक लेबल बनाया है जिससे आप खोज परिणामों में सिर्फ इसी जालस्थल के नतीजे देख सकते हैं। फिलहाल रिफाईनमेंट में भी हिन्दी यूनीकोड शब्द नहीं दिये जा सकते, न ही लेबल के नाम के लिये और न ही फिल्टर शब्दों हेतु। और हाँ अगर आप पसंद करें तो पूरा सर्च इंजन क्षमल प्रारूप में भी बना सकते हैं और गूगल एजैक्स एपीआई का भी प्रयोग कर सकते हैं।

चिट्ठा खोजी को आज़मायें:



Tagged as: , , , , ,

 

3 टिप्पणीयाँ »

  1. दादा, आपने अच्छी जानकारी दी, इसके लिये धन्यवाद।

    किन्तु मुझे लगता है कि इस समय हिन्दी के लिये एक ऐसे यन्त्र की जरूरत है जो-
    १) अनयूनिकोडित हिन्दी पृष्ठों को भी खोज सके, और
    २) बिना किसी फांट डाउनलोड के उन पृष्ठों को दिखा सके। (यदि लगे हाथ यूनिकोडित भी कर दे तो सोने पे सुहागा)

  2. आपने ज़बरदस्त जानकारी दी है – आपका धन्यवाद

  3. मैं चाहता हूँ की कोई ऐसा खोजी यन्त्र हो की जिसमे चाहे तो फोनेटिक टाइप करते ही हिन्दी ट्रांस्लितेरेशन के द्वारा सर्च रिजल्ट दिखाए /
    देवाशीष जी क्या ऐसा नहीं हो सकता है /