नुक्ताचीनी ~ Hindi Blog


Archive for the ‘हम बोलेंगे तो…’ Category

गोविंदा ने किसी को सरेआम थप्पड़ मारा, पर…

By • Jan 17th, 2008 • Category: हम बोलेंगे तो...

यह थप्पड़ उन्होंने: उन पत्रकारों और संपादकों को क्यों नहीं मारा जिन्हें यह खबर और थप्पड़ की क्लिपिंग के डेड़ हजार लूप बनाकर आनन फानन तैयार की गई फुस्स रपट ब्रॉडकास्टनीय लगती है? या उन नेताओं को क्यों नहीं मारा जो भारत रत्न के नाम पर राजनीति कर रहे हैं और बेचारे वाजपेयी जी के […]



कैमरा खरीदेंगे?

By • Mar 11th, 2007 • Category: हम बोलेंगे तो...

जी मेरा कैमरा! क्या करूं, बेचता नहीं पर अस्पताल के बिल चुकाने हैं। वाकई बढ़िया कैमरा है। यकीन न आये तो ये फोटो देखें जो आखिरी बार मैंने खींचा था।



कवि या फेफड़ों के डाक्टर?

By • Apr 12th, 2006 • Category: हम बोलेंगे तो...

थोड़ी सी धूल मेरी धरती की मेरे वतन की, थोड़ी सी खुशबू बौराई सी मस्त पवन की, थोड़ी सी धौंकनी वाली धक‍धक‍ धक‍धक‍ धक‍धक‍ सांसें, जिनमें हो जुनूं जुनूं, हो बूँदे लाल लहू की। अरे भैया प्रसून हम तो आपको एडमैन टर्न्ड लिरिसिस्ट समझ बैठे पर आप तो कुछ और ही निकले। धूल से धौंकनी […]



काम है तेरा तेरा

By • Apr 9th, 2006 • Category: हम बोलेंगे तो...

हिमेश रेशमिया ने एक हालिया साक्षात्कार में कहा कि उनके पास १००० गानों का स्टॉक पड़ा है और वो रोज़ दो तीन गाने तो रियाज़ करते ही स्वरबद्ध कर लेते हैं। मुझे तो बड़ा डर लगने लगा है, तो क्या आने वाले दो तीन सालों तक समीर के लिखे और इन नाक से गाये गानें […]